15 साल की तीरंदाज की गर्दन में लगा तीर,उसके बाद जो हुआ...

15 साल की तीरंदाज की गर्दन में लगा तीर,उसके बाद जो हुआ देख रौंगटे खड़े हो जाएंगे !

SHARE
15 साल की तीरंदाज की गर्दन में लगा तीर,उसके बाद जो हुआ देख रौंगटे खड़े हो जाएंगे !

दुनिया में कई तरह के खेल खेले जाते है, हर खेल का अपना अलग नियम होता है लेकिन खेल चाहे कोई भी हो दुर्घटना किसी भी खेल में हो सकती है. चाहे वो क्रिकेट हो, फुटबॉल हो या फिर तीरंदाजी. कई बार खेल में हुई गलती आपको ज़िन्दगी भर का सबक दे जाती है. ऐसा ही एक किस्सा कोलकाता के बोलपुर जिले में हुआ जहाँ एक 15 साल की लड़की की जान बस जाते-जाते बच गई.

दुनिया में कई तरह के खेल खेले जाते है, हर खेल का

मौजूदा खबर अनुसार बता दें कि भारतीय खेल प्राधिकरण की एक 15 वर्षीय तीरंदाज की जान उस समय बच गयी जब अभ्यास सत्र के दौरान एक तीर उनके गर्दन के दायें हिस्से के पास से आर-पार निकल गया था. साई के क्षेत्रीय निदेशक एमएस गोइंडी ने इसे दुर्घटना करार देते हुए कहा कि तीरंदाज फाजिला खातून के गर्दन के पास से तीर आर-पार निकल गया और वह खतरे से बाहर हैं. उनका अभी अस्पताल में इलाज चल रहा है. सौभाग्य की बात है कि ये तीर उनकी सांस की नली से होकर नहीं गुजरा.
बता दें कि तीरंदाज ज्वेल शेख का गलती से चला तीर फाजिला को लगा था. वीडियो में दिखाया गया है कि फाजिला अस्पताल में है और तीर उनकी गर्दन के दायीं तरफ से आर-पार हुआ है. गोइंडी ने घटना की विस्तृत जांच के आदेश देते हुए कहा है कि निशाना लगाने को लेकर कड़े निर्देश दिए गए हैं कि जब तीरंदाज तीर एकत्रित करने गया हो तो बाकि कोई निशाना नहीं लगाएगा, उनके वापस अपनी जगह पर लौटने के बाद ही अगले दौर के निशाने लगाये जाते हैं लेकिन मैं नहीं जानता कि यह कैसे हुआ. इस घटना को लेकर सभी कोच जवाबदेह हैं.

READ  वीडियो : युवती के छोटी ड्रेस में होने के कारण युवक ने कर डाली शर्मनाक हरकत !

Close shave at SAI: Arrow pierces neck of 14-year-old archer Fazila Khatun @PTI_News @worldarchery #Archery pic.twitter.com/kAI0kKGLYH

— Tapan Mohanta (@TapanMohanta) October 30, 2017

बताते चलें कि गोइंडी इस पूरी घटना की जांच शुरुवात से करवाना चाहते है ताकि वो ये सुनिश्चित कर सकें कि भूल कैसे हुई और साथ ही भविष्य में ऐसी कोई घटना न घटे. उनके मुताबिक कोचिंग स्टाफ की तरफ से चूक हुई है क्योंकि एक सेट निशाने पर लगाने के बाद निशाना नहीं लगाने की घोषणा कर दी जाती है. फाजिला रिकर्व की युवा तीरंदाज है. वह उन 23 प्रशिक्षुओं में शामिल है जिन्हें जुलाई में जिला प्रतियोगिताओं में ट्रायल के बाद साइ केंद्र के लिए चुना गया था.

देखिये वीडियो !!

Loading...
loading...

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY