अनुपम राष्ट्रभक्ति,जब लोग होटल और पार्टियों में खड़े हो सकते हैं तो...

अनुपम राष्ट्रभक्ति,जब लोग होटल और पार्टियों में खड़े हो सकते हैं तो राष्ट्रगान के लिए क्यों नहीं

SHARE
अनुपम राष्ट्रभक्ति जब लोग होटल और पार्टियों में खड़े हो सकते हैं तो राष्ट्रगान के लिए क्यों नहीं

राष्ट्रगान को लेकर देश में विवाद पहले से ही चल रहा है। इसपर हाल ही में FTII के चेयरमैन बने अनुपम खेर ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि क्यों नहीं केवल 52 सेकेंड के लिए सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए खड़े हो सकते हैं। अनुपम खेल हर मुद्दे पर खुलकर अपने विचार रखने के लिए जाने जाते हैं। राष्ट्रगान पर हो रहे विवाद पर उन्होंने कहा कि जब लोग रेस्टोरेंट में इंतज़ार कर सकते हैं, सिनेमाघरों में टिकट के लिए लम्बी लाइन में खड़े रह सकते हैं, पार्टियों में भी खड़े रह सकते हैं तो क्यों नहीं सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए क्वाल 52 सेकेंड के लिए खड़े हो सकते हैं।

राष्ट्रगान के समय खड़ा होना दिखाता है परवरिश:
राष्ट्रगान को लेकर देश में विवाद पहले से ही चल रहा है। इसपर हाल ही में FTII के चेयरमैन बने अनुपम खेर ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि क्यों नहीं केवल 52 सेकेंड के लिए सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए खड़े हो सकते हैं। अनुपम खेल हर मुद्दे पर खुलकर अपने विचार रखने के लिए जाने जाते हैं। राष्ट्रगान पर हो रहे विवाद पर उन्होंने कहा कि जब लोग रेस्टोरेंट में इंतज़ार कर सकते हैं, सिनेमाघरों में टिकट के लिए लम्बी लाइन में खड़े रह सकते हैं, पार्टियों में भी खड़े रह सकते हैं तो क्यों नहीं सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के लिए क्वाल 52 सेकेंड के लिए खड़े हो सकते हैं। राष्ट्रगान के समय खड़ा होना दिखाता है परवरिश:

आपको बता दें अनुपम खेर बीजेपी के दिवंगत नेता प्रमोद महाजन मेमोरियल अवार्ड लेने गए हुए थे। केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकास जावडेकर ने उन्हें इस पुरस्कार से सम्मानित किया। इस कार्यक्रम में उन्होंने राष्ट्रगान को सिनेमाघरों में बजाये जाने के खिलाफ विरोध करने वालों की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों का मानना है कि जब राष्ट्रगान सिनेमाघर में बजे तो खड़े होना जरुरी नहीं होना चाहिए। लेकिन मुझे राष्ट्रगान के समय खड़े होना उस व्यक्ति की परवरिश दिखाता है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से हम अपने पिता या शिक्षक के सम्मान में खड़े होते हैं, ठीक उसी तरह से राष्ट्रगान में खड़े होना देश के लिए सम्मान को दिखता है।

राष्ट्रगान के सम्मान में सबको खड़ा होना चाहिए:

पिछले कुछ दिनों से पुरे देश में राष्ट्रगान कपो लेकर विवाद छिड़ा हुआ है। इसी बीच कई बॉलीवुड सितारों ने इसपर अपनी-अपनी राय व्यक्त की है। सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान के मुद्दे पर प्रसिद्ध पार्श्वगायक सोनू निगम ने कहा, “हमारे लिए सम्मान की बात है। इसे आप रेस्टोरेंट और सिनेमा हॉल में बजाकर छोटा मत कीजिये। मैं अपने माता-पिता को वहीँ ले जाऊंगा जहाँ उनकी इज्जत होगी। मेरे हिसाब से सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान नहीं बजना चाहिए और अगर बज रहा है तो सभी को उसके सम्मान के लिए खड़े होना चाहिए। मैं पाकिस्तान के राष्ट्रगान का भी सम्मान करूँगा। मैं दूसरों के राष्ट्रगान के लिए खड़ा होऊंगा।“ सोनू ने आगे कहा कि ना ही वह लेफ्टिस्ट हैं और ना ही राइटिस्ट हैं वह बीच में हैं।

READ  क्या बाबा की गुफा में प्रेग्नेंट हो गई थी हनीप्रीत, देखिए बेडरूम में क्या देखा गया ?

सुप्रीम कोर्ट ने बताया राष्ट्रगान बजते वक़्त खड़ा होना जरुरी नहीं:
पिछले कुछ दिनों से पुरे देश में राष्ट्रगान कपो लेकर

राष्ट्रगान के मामले पर बॉलीवुड की प्रसिद्ध अभिनेत्री सनी लियोनी ने कहा कि, “ मुझे लगता है देशभक्ति की फीलिंग आपके दिल से निकलती है। सुप्रीम कोर्ट का जो भी फैसला हो लेकिन मेरा मानना है कि राष्ट्रगान बजते वक़्त खड़े होना चाहिए। मैं भी खड़ी होती हूँ।“ अरबाज खान ने इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि, “भले ही राष्ट्रगान सिनेमा हॉल में बजते वक़्त सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि खड़ा होना जरुरी नहीं है, लेकिन मैं हमेशा खड़ा होता हूँ। यह मेरे लिए एक प्रैक्टिस की तरह है। जब भी राष्ट्रगान बजता है मैं अपने आप खड़ा हो जाता हूँ।“ इस मामले में बॉलीवुड के प्रसिद्ध निर्देशक मधुर भंडारकर और गीतकार जावेद अख्तर ने अपने विचार ट्वीट करके दिए हैं।

Loading...
loading...

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY